बेटियों के लिए महत्वपूर्ण पेरेंटिंग टिप्स

A girl sitting and resting on books
किताबों पर आराम करती एक किशोर लड़की

Synopsis

जब तक कि महिलाएं अपने लिए सम्मानित नहीं महसूस करेंगी वह अपने बच्चे के साथ मातृत्व की वास्तविक भावना के साथ भी न्याय नहीं कर सकेंगी।

बेटियों के लिए महत्वपूर्ण parenting tips.

लड़की के माता-पिता को इन महत्वपूर्ण पेरेंटिंग युक्तियों को जानना चाहिए।

# पेरेंटिंग युक्तियाँ –

मैं एक ऐसे परिवार में पली बढ़ी हूं, जहां लड़के और लड़कियों को समान अधिकार दिये जाते थे। परिवार में एक लड़की होने के नाते कभी-कभी अपने माता-पिता से कोई भेदभाव महसूस नहीं किया।

मेरे माता-पिता ने मुझे  मेरे भाइयों के समान सभी सुविधाएं दी। इसलिए  जब भी मुझे समाज में लड़के और लड़कियों के बीच भेदभाव जैसी घटना सुनने  में मिलती है, तो मुझे बहुत निराशा होती है।

लडके और लड़कियां के बीच फैला भेदभाव का कारण जाने के लिए कुछ बातों पर प्रकाश डालना जरूर है –

सबसे पहले हम समाज के लोगों की कुछ विशेष विशेषताओं पर प्रकाश डालेंगे:

1) लोग ईश्वर और देवियों की पूजा करते हैं क्योंकि वे मानते हैं कि ईश्वर ब्रह्मांड के निर्माता हैं।

2) लोगों को उनके जन्मस्थान के लिए बहुत स्नेह और सम्मान भी होता है।

3)लोग कारों, घरों और अन्य संपत्तियों जैसी चीजों को अत्यधिक प्यार और देखभाल करते हैं।

अब अगर हम गंभीर रूप से सोचते हैं, तो मनुष्यों की आदर्श विशेषताए क्या होनी चाहिए?

1. लोगों को देवी-देवताओं की शिक्षाओं की पूजा करनी चाहिए।

2.लोगों को जानवरों, पौधों और अन्य मनुष्यों जैसे जीवन के सभी रूपों से स्नेह और सम्मान देना चाहिए।

3.लोगों को भौतिकवादी चीजों के बजाय भावनाओं, विचार प्रक्रिया और रचनात्मकता के लिए अत्यधिक प्यार और देखभाल देना चाहिए।

अब जब हम इस दुनिया के निर्माता के बारे में कहते हैं, तो हमारे दिमाग में पहली बात क्या आती है?

दुनिया की निर्माता “मां” है – एक महिला है।

# मातृत्व – लेकिन यह एक आश्चर्यजनक तथ्य है कि मानव जाति के रचनाकार महिलाएं का समाज के एक विशेष वर्ग द्वारा शोषण किया जाता हैं।

जो महिलाएं मानव जाति को जन्म देती हैं, उनका पोषण करती हैं उन्हीं महिलाओं का समाज के एक वर्ग द्वारा यातना और दुर्व्यवहार किया जाता है।

क्या हम किसी ऐसे समाज की कल्पना कर सकते हैं जहां महिलायेँ ना हो?

महिला के बिना मानव जाति का सौ से अधिक वर्षों तक जीवित रहना संभव नहीं होगा।

सदियों से महिला पृथ्वी पर जीवन चला रही है।

यह शर्मनाक सच है कि महिलाओं को समाज के कमजोर और आश्रित वर्ग के रूप में माना जाता है। कुछ लोग महिलाओं को गुलामों के रूप में मानते हैं। वे महिलाओं की भावनाओं और क्षमताओं को महत्व नहीं देते हैं।

यदि हम इतिहास का अध्ययन करते हैं, तो हम देखेंगे की सदियों से महिलाओं को यातना दी गई है।

इस बारे में कुछ आश्चर्यजनक तथ्य निम्नलिखित है –

पहले, किशोरावस्था में बेटियों को शादी में मजबूर होना पड़ता था। उनका विवाह उस व्यक्ति से कर दिया जाता था जो कि उससे उम्र में काफी बड़ा होता था। उसे उस व्यक्ति से शादी करने के लिए मजबूर होना पड़ता था जिसे वह प्यार नहीं करती थी।

दूसरा, बेटियों को कई देशों में महिला जननांग उत्परिवर्तन अनुष्ठान का सामना करना पड़ता था। यह एक प्रकार मानवाधिकारों के खिलाफ था।

तीसरा, बेटियों का राष्ट्रीय सीमाओं में वस्तुओं के रूप में कारोबार किया जाता है। वे वेश्याओं और गुलामों के रूप में भोग किया जाता है।

चौथा, लड़कियों को कार्यस्थलों और स्कूलों में यौन उत्पीड़न और दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ता है।

पांचवा, अजनबियों से बात करने या अपने मर्जी से  विवाह करने पर उनके परिवार वाले ही परिवार के सम्मान के नाम पर बेटियों को मार देते है।

छठी, लड़कियों को उनके जन्म से पहले भी मार दिया जाता है। चूंकि प्रौद्योगिकी ने प्रसवपूर्व यौन चयन के लिए उपकरण बना लिये हैं,  तो उनके लिंग चयन द्वारा गर्भपात किया जाता है।

ऐसे युग में, जहां महिलाओं ने लगभग सभी क्षेत्रों में पुरुषों से आगे निकल गई है वहाँ ऐसी घटना समाज में कलंक के समान हैं।

यहां बेटियों को पालने के लिए विशेष जीवन स्थितियों से निपटने के लिए कुछ पेरेंटिंग युक्तियां दी गई हैं।

सबसे पहले यह आवश्यक है कि माताओं को अपने महिला होने का सम्मान करना चाहिए।

जब तक कि महिलाएं अपने लिए सम्मानित नहीं महसूस करेंगी वह अपने बच्चे के साथ मातृत्व की वास्तविक भावना के साथ भी न्याय नहीं कर सकेंगी।

समाज में अधिकतर लड़कों को लड़की से अधिक पसंद किया जाता है।

जब भी कोई महिला बच्चे को जन्म देने वाली होती है तो परिवार वाले उसे बेटा होने का आशीर्वाद देते हैं।

लड़की के जन्म होने पर वह उत्साह नहीं दिखाया जाता है जो एक लड़के के जन्म पर होता है। इस तरह की धारणा आज भी प्रचलित है।

यह भेदभाव महिलाओं की ही गलत मान्यताओं के कारण है।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बचपन से ही उसे प्रशिक्षित किया जाता है कि लड़की की मां की तुलना में लड़के की मां होना अधिक प्रतिष्ठा का विषय है।

पहले, जिस दिन एक महिला अपने होने पर गर्व महसूस करेगी उसी दिन वह अपनी बेटी को भी उसी उत्साह से स्वागत करेगी जैसे वह अपने बेटे को करती है।

महिलाओं को यह सोचना चाहिए कि अगर उनकी मां उनको पूरी तरीके से स्वीकार करते हैं तो किसी और के स्वीकृति की जरूरत नहीं होती है।

एक लड़की पूरा संसार जीत सकती है, अगर उसकी मां उसके साथ पूरी तरीके से रहती है।

इसका अर्थ यह है कि एक लड़की की जिंदगी में उसकी मां का स्वीकार करना बहुत  आवश्यक है।

जिस दिन एक लड़की अपनी मां पर भरोसा करती है कि वो उसका हमेशा साथ देगी उस दिन लड़की को दुनिया की कोई ताकत हरा नहीं सकती।

इसलिए एक महिला को अपने महिला होने पर गर्व करना चाहिए।

एक बेटी की मां होने पर गर्व महसूस करें आपको किसी और की  स्वीकृति की आवश्यकता नहीं।

दूसरा,  कुछ परिवारों में ऐसी मान्यता है कि केवल लड़के ही परिवार का नाम आगे बढ़ा सकते हैं और उनके आने वाली पीढ़ी केवल लड़के के नाम पर ही आगे बढ़ शक्ति हैं।

उनको लगता है कि बेटियां दूसरे परिवार में चली जाती हैं और उनका अस्तित्व खत्म हो जाता है।

तो इसलिए बेटी की कोई भी उपलब्धि अगली पीढ़ी तक नहीं पहुंच पाएगी।

लेकिन यहां ध्यान देने की आवश्यकता यह है कि कितने लोग अपने पूर्वजों की याद करते हैं और पूर्वजों का नाम जानते हैं।

हम लोग कभी-कभी अपने पूर्वजों का नाम तक भूल जाते हैं।

तो इसलिए यह कहना कि हमारी पीढ़ी आगे चलती चली आ रही है इसका कोई औचित्य नहीं रह जाता है।

तीसरी,  बात यह है कि माता पिता को समझना चाहिए कि लड़के और लड़की में भेदभाव  हमारे समाज में बहुत सदियों पहले से चला रहा है और जिन लोगों ने यह भेदभाव बनाया था, हम उनको जानते भी नहीं है लेकिन फिर भी हम उसी बात को आज तक मानते चले आ रहे हैं।

क्या हम लोगों को अपने विवेक से काम नहीं लेना चाहिए? क्या समाज के बनाए हुए नियमों और धारणाओं को बिना सोचे समझे मानना गलत नहीं होगा?

चौथा, दहेज जैसी सामाजिक कुरीति की वजह से माता पिता लड़की होने पर परेशान हो जाते हैं।

तो अगर  इस समाज के युवा वर्ग दहेज जैसी कुरीति के विरोध में आ जाए और वह अपने विवाह के समय ना दहेज दे, ना दहेज ले, तो यह प्रथा बंद हो सकती है।

माता पिता को चाहिए कि अपनी बेटियों को  बड़ा कर आर्थिक और मानसिक रूप से इतना स्वतंत्र बना दें कि उनको दहेज के लिए समझौता ना करना पड़े।

और वह उस ही लड़के से विवाह करने को मजबूर ना हो जो दहेज ले रहा हो।

पांचवा, सामान्य शिक्षा के अलावा माता पिता को अपनी बेटियों को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वतंत्र बनाने के लिए कुछ विशेष शिक्षा की व्यवस्था करनी चाहिए।

लड़कियों को आत्मरक्षा की तकनीकीओं को सिखाना चाहिए और जीवन में कभी कोई अनहोनी हो तो उसका सामना करने के लिए मानसिक रूप से मजबूत बनाना चाहिए।

छठा, अपनी बेटियों को यौन शिक्षा जरूर देना चाहिए ताकि उन्हें परिवार, समाज या स्कूल में अगर उनके साथ कुछ असामान्य होता है, तो वह समझ सके और समय पर अपने माता-पिता या टीचर्स को अपनी प्रॉब्लम बता सके।

अगर उन्हें इस बात के बारे में कुछ ज्ञान नहीं होगा  तो वह किसी अनहोनी के समय यह समझ नहीं पाएंगी उन्हें क्या करना चाहिए।

ऐसी शिक्षा के लिए माता पिता को स्कूल से अपने बच्चों की उम्र के अनुसार योग शिक्षा प्रदान करने के लिए सलाह देनी चाहिए।

यहां कुछ प्रेरणादायक भारतीय महिलाएं हैं जो अभिभावकों के लिए प्रेरणा का स्रोत हो सकती हैं।

1. 7 महीनों में दुनिया भर: आईएनएसवी तरीनी की सभी महिला भारतीय नौसेना के दल ऐतिहासिक यात्रा पर सैल करते हैं।

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने आईएनएसवी तारिनी और उसके सभी महिला दल को ध्वस्त कर दिया जो सर्कम्विगेशन प्रयास शुरू करते हैं।

2. लड़कियों के लिए मिसाल बनीं राधा

अति पिछड़े गांव सिरसिया के सेमरा नौशहरा की रहने वाली राधा श्रीवास्तव लड़कियों के लिए मिसाल है।

आज भी इनके गांव में रोशनी नहीं है, रास्ते नहीं हैं, लेकिन राधा इस समय अपने गांव के लिए किसी रोशनी से कम नहीं है।

इस दौरान श्री मिश्र ने कहा कि इस छोटे से जिले और अति पिछड़े ग्रामीण क्षेत्र से निकल कर राधा ने जो मुकाम हासिल किया है वह अपने आप में एक मिसाल है।

राधा आज जिले के हर महिलाओं के लिए उदाहरण बन चुकी है।

इसके बाद लोगों ने विद्यालय परिसर से रैली निकाली।

जिसमें क्षेत्र के हजारो लोग सम्मिलित हुए। राधा ने रैली के दौरान लोगों से अपने लिए वोट मांगे। जिसमें सांसद भी उनके साथ मौजूद रहे।

इस मौके पर पिता शिव सहाय लाल श्रीवास्तव, भाई रवि श्रीवास्तव, राजन श्रीवास्तव, प्रधानाचार्य योगेश शुक्ल सहित पूरा विद्यालय परिवार व क्षेत्र के लोग मौजूद रहे।

जबकि भिनगा में मिठाई लाल गुप्ता के घर पर भी भव्य स्वागत किया गया।

3. मेरी कॉम

यह महिला दिखाती है कि एक मां होने से महिला को अपने सपनों को प्राप्त करने से नहीं रोका जाता है। मातृत्व आपको परेशान नहीं करना चाहिए, यह आपको मजबूत बनाना चाहिए।

मैरी कॉम अपने सपनों को पूरा करने के लिए इंतजार कर रहे सभी मांओं के लिए एक आदर्श उदाहरण है।

4. सुष्मिता सेन  सुष्मिता सेन ने 2000 में एक बच्ची और 2010 में दूसरी लड़की को अपनाया।

5. पीटी उषा: “पेयोली एक्सप्रेस” के रूप में भी जाना जाता है, पीटी उषा भारत के सबसे सम्मानित एथलीटों में से एक है।                           6. किरण बेडी:

किरण बेदी न केवल देश की पहली महिला आईपीएस अधिकारी बल्कि सबसे सफल पुलिस अधिकारी भी हैं। चाहे वह कुख्यात तिहाड़ जेल को संभालने या देश में भ्रष्टाचार विरोधी अभियान का नेतृत्व करने के बारे में है, किरण सभी भूमिकाओं में अनुकरणीय है।

7. तानिया सचदेव:

वह वास्तव में दिमाग के साथ एक सुंदरता है। सचदेव ने 2005 में महिला ग्रैंडमास्टर और 2008 में अंतर्राष्ट्रीय मास्टर जैसे खिताब जीते हैं। उन्हें अर्जुन पुरस्कार भी मिला है।

8.पूजा ठाकुर   

इंटर-सर्विस गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाले पहले अधिकारी हैं। वह कहती है कि वह भारतीय वायुसेना में शामिल हुई क्योंकि वह अपने जीवन के लिए चाहती थी।                                           

9.रोशनी शर्मा

रोशनी शर्मा हाल ही में कन्याकुमारी से कश्मीर तक मोटरबाइक की सवारी करने वाली पहली भारतीय महिला बनीं।

10. मूवी “डांगल” से एक बहुत प्रेरणादायक दृश्य

Follow me on
Like this article? Share.
Facebook
Twitter
WhatsApp
Email
error: Alert: Content is protected !!