अध्याय 04 – बच्चों को आशावादी कैसे बनाये?

लगभग नौ महीने के लंबे इंतजार के बाद जब डॉक्टर माता-पिता को बताते हैं कि उन्हें एक बेटी या बेटा हुआ है तो पहले माता-पिता यह विशवास नहीं कर पाते हैं  कि वे माता या पिता बन गए हैं। लेकिन, अगले ही पल जैसे ही एहसास होता है, वे अत्यधिक उत्साहित महसूस करते हैं।

माता-पिता के जीवन में वे सबसे अच्छे पल होते हैं। एक बच्चा होने से जीवन में बहुत उत्साह और आनंद आता है; हालाँकि, साथ में यह कई ज़िम्मेदारियाँ भी लाता है। लेकिन, पालन-पोषण कौशल सीखने के लिए, दुनिया भर में कहीं भी कोई प्रशिक्षण संस्थान उपलब्ध नहीं हैं। पालन-पोषण के बारे में ज्ञान का स्रोत घर के बड़े, किताबों और अन्य संसाधनों से मिलता है।

जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते जाते हैं, उन्हें बाहरी दुनिया की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए, उन्हें जीवन की चुनौतियों से निपटने के लिए विभिन्न कौशल सिखाने की आवश्यकता है।

कठिन परिस्थितियों का सामना करते हुए बच्चे कभी-कभी खुद को कमजोर और नकारात्मक महसूस करते हैं। इसलिए, माता-पिता का कर्तव्य है कि वे बच्चों को सभी परिस्थितियों में सकारात्मक बने रहने के लिए मार्गदर्शन करें।

जांचें कि आप बच्चों में आशावाद का कितना अच्छा पोषण कर रहे हैं:

Quiz

1. माता-पिता के रूप में आप कैसा महसूस करते हैं,
2. आप मानते हैं कि,
3. जब आप कोई काम शुरू करते हैं और कहीं अटक जाते हैं, तो आप उस काम को पूरा करने के लिए बार-बार कोशिश करते हैं, तब,
4. जब कोई आपको हर्ट करता है या किसी कारण से स्थिति खराब हो जाती है, तब,
5. जब भी आपके बच्चे अपनी दिन-प्रतिदिन की समस्या में फँसे हों,
6.  जब आप पाते हैं कि आपके बच्चे बहुत कोशिश करने पर भी समाधान नहीं खोज पा रहे हैं तब 
7. जब आप जीवन में कुछ मामलों में अपने सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद सफलता प्राप्त नहीं कर पाते हैं,
8. नकारात्मकता का मुकाबला करने के लिए,
9. अपने नकारात्मक विचारों पर चिंतन अच्छे से किया जा सकता है,
10. आप अपनी कमजोरियों को जानते हैं लेकिन अपनी ताकत को जानने के लिए,

 

To know more about the topic please read the article.

Sign up to receive new posts

close
Mother child bird

Don’t miss these tips!

.

error: Alert: Content is protected !!