अध्याय 1-सेल्फ क्रिटिकल होने से कैसे बचे

आत्म-आलोचना एक आदत  या फिर कहे सोच  है जिसमें लोग खुद को नकारात्मक और निराशावादी मानते हैं। एक बार जब कोई घटना उनके प्रतिकूल हो जाती है, तो वे सोचते हैं उनके साथ हमेश ऐसा ही होगा। तो ऐसे लोगों को आत्म-आलोचनात्मक कहा जाता है और इस प्रवृत्ति को आत्म-आलोचना कहा जाता है।

यदि आप इसके मूल कारण को समझना चाहते हैं, तो हमें समझना होगा की उनका पालन पोषण कैसे और किन परिस्थति में हुआ। कभी-कभी कुछ माता-पिता जरूरत से ज्यादा strict होते  हैं और हमेशा  बच्चों की गलतियों को notice  करते हैं और उन्हें टोकते रहते है। उनकी परवरिश में न तो कोई सौम्यता होती है है और न ही कोई दया। उनका यह व्यव्हार बच्चो के अंदर हीन  भावना पैदा हो जाती है। 

 और उन्हें लगता है की वह कभी भी कुछ ठीक नहीं कर सकते। 

न केवल माता-पिता, परिवार के अन्य सदस्य, शिक्षक या मित्र भी बच्चों के इस तरह के व्यवहार के लिए जिम्मेदार हो सकते है। 

self -criticism के कारण लोग हमेशा किसी न किसी बात को लेकर तनाव में रहते हैं। इनका आत्मविश्वास इतना कम होता है वह कोई भी रिस्क नहीं ले पाते। वो ज्यादा कोशिश ही नहीं करते जिससे उनके calibre और skills को बहार आने का मौका ही नहीं मिल पता। इसलिए बच्चों को comment करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए। 

Quiz

1. आप चीजों को काले या सफेद श्रेणियों में देखते हैं, बिना किसी मध्य आधार के। उदाहरण के लिए, यदि मैं perfection प्राप्त नहीं करता, तो मैं पूर्ण रूप से असफल हूँ।
2. आप किसी एक नकारात्मक अनुभव को जरूरत से ज्यादा value देते हैं और यह ही सोचते है की अब आप कभी भी सफल नहीं हो पाएंगे , उदाहरण के लिए, अगर आपने एक बार गलती की है, और फिर आप मान ले कि आप हमेशा के लिए कुछ भी सही नहीं कर सकते।
3. आप उन सभी चीजों पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करते हैं जो गलत हुईं, उन सभी चीजों पर नहीं जो सही हुईं।
4. आप अपनी राय व्यक्त करने से बचते हैं और अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में confident नहीं होते।

 

To know more about the topic please read the article

Sign up to receive new posts

close
Mother child bird

Don’t miss these tips!

.

error: Alert: Content is protected !!