सेल्फ असेसमेंट कोर्स

पूर्ण और प्रभावी जीवन जीने के लिए इसके कुछ तथ्यों का ज्ञान होना  आवश्यक है। उन्हें जाने बिना यह जीवन अधूरा सा लगता है। जानकारी के अभाव में कई बार हम हर स्थिति को प्रभावी ढंग से हैंडल नहीं कर पाते हैं। इसलिए अधूरे ज्ञान से सच्चा सुख नहीं मिल पाता है । लेकिन उन तथ्यों को जानकर बेहतर तरीके से जीने का मजा लिया जा सकता है।

तो, अपने जीवन को प्रभावी ढंग से संभालने के लिए आपको किन तथ्यों को जानने की आवश्यकता है?

वे तथ्य हैं-

आत्म-सम्मान और आत्म-मूल्य की सीमाओं को समझना

अपनी नकारात्मक सोच को पहचानना

अपने क्रोध को नियंत्रित करने की क्षमता होना

दूसरों के बारे में सोचने का तरीका

तनाव को संभालने की क्षमता

लोगों के साथ स्वस्थ संबंध बनाए रखना

सौहार्दपूर्ण पारिवारिक संबंध बनाए रखना

अपने और अपने परिवार के स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना

जीवन की विभिन्न स्थितियों को प्रभावी ढंग से संभालने के लिए और अपने जीवन को खुशी से जीने  के लिए आपके पास उपरोक्त कौशल होने चाहिए। लेकिन, यदि आपके पास स्वाभाविक रूप से वे कौशल नहीं हैं, तो आप उन्हें ज्ञान प्राप्त करके विकसित कर सकते हैं।

स्व-मूल्यांकन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा आप अपने बारे में अधिक जान सकते हैं।

यह स्व-मूल्यांकन पाठ्यक्रम आपको अपनी सकारात्मक और नकारात्मक भावनाओं की पहचान करने में मदद करेगा। निर्देशित आत्म-चिंतन और निर्देश के माध्यम से, आप अपनी नकारात्मक भावनाओं को सकारात्मक में बदलने में सक्षम होंगे।

अपने व्यक्तित्व लक्षणों की स्पष्ट दृष्टि के साथ, आप तनाव मुक्त स्वस्थ जीवन जीने में सक्षम होंगे। साथ ही, आप परिवार के साथ-साथ दूसरों के साथ मजबूत बंधन का आनंद उठा सकेंगे। यह न केवल आपको एक सुखी व्यक्ति बनने में मदद करेगा बल्कि आप अधिक पूर्ण जीवन जीएंगे।

आपको यह कोर्स क्यों करना चाहिए?

यह भागदौड़ भरी जिंदगी का दौर है जहां हर कोई अलग-अलग मुद्दों से निपटने में इतना बिजी है कि उन्हें खुद को समझने का समय ही नहीं मिलता। कभी-कभी लोगों में कुछ आवश्यक कौशल की कमी होती है जिसका उनके जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है। साथ ही, वे कुछ नकारात्मक भावनाओं से भी पीड़ित होते हैं जो उनके जीवन को कष्टकारी बना देती हैं।

हो सकता है आप भी ऐसी ही किसी स्थिति का सामना कर रहे हों।

इसलिए थोड़ा सा खुद पर ध्यान देने और अपने नजरिए में कुछ बदलाव करने से आपको काफी मदद मिलेगी।

इस कोर्स को करने से आप कई क्षेत्रों में खुद को इम्प्रूव कर पाएंगे। कुछ सरल युक्तियों के साथ, आप स्वयं को सफलतापूर्वक रूपांतरित करने में सक्षम होंगे। वह परिवर्तन न केवल आपको सुकून देगा बल्कि जीवन के हर पहलू में आपको अधिक सफल भी बनाएगा। आप बेहतर तरीके से समझ पाएंगे कि आप विभिन्न परिस्थितियों में अपनी भूमिका में कितना अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

आपको अपनी ताकत और कमजोरियों का पता चल जाएगा। साथ ही, आप अपने कौशल को बढ़ाने के लिए रणनीति विकसित कर सकते हैं।

समय-समय पर आत्म-मूल्यांकन आपको अपने लक्ष्यों को पूरा करने और खुद को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

पाठ्यक्रम की अवधि

हर चैप्टर आधे घंटे का होगा। इसलिए, कोर्स पूरा करने के लिए आपको चार से पांच घंटे की आवश्यकता होगी।

इस कोर्स की अपेक्षित अवधि छह घंटे है।

कोर्स कैसे करें

यह कोर्स सभी विषयों को कवर करता है। इस पाठ्यक्रम में विभिन्न विषय हैं जो आपको स्वयं का आकलन करने में मदद करेंगे।

सबसे पहले, आपको प्रश्नोत्तरी का प्रयास करना चाहिए। इससे आपको अंदाजा होगा कि आप जीवन में विभिन्न परिस्थितियों में खुद को कितनी अच्छी तरह संभाल सकते हैं।

हर चैप्टर के सवालों के जवाब सबमिट करने के बाद आपको रिजल्ट पता चल जाएगा। रिजल्ट जानने के बाद इसमें दिए गए वीडियो को ध्यान से देखें और अपने लिए जरूरी बातों को नोट कर लें। मदद के लिए हर चैप्टर से जुड़े आर्टिकल का लिंक भी दिया गया है। वीडियो और लेखों के माध्यम से आपको खुद को बेहतर बनाने की जानकारी मिलेगी।

वीडियो देखते समय या लेख पढ़ते समय, यदि आपको कुछ उपयोगी लगता है, तो उसे आप जरूर नोट कर लें। क्योंकि अपनी सोच या दृष्टिकोण में बदलाव लाने के लिए आपको चीजों को लगातार दोहराना पड़ेगा। कोई भी बदलाव तुरंत नहीं आता है। इसलिए आपको अपने नोट्स जरूर बनाने चाहिए। आपके अपने नोट्स हमेशा आपकी मदद करेंगे।

इनका नियमित अभ्यास निश्चित रूप से आपको बदल देगा।

इस कोर्स के विभिन्न विषय इस प्रकार हैं-

 अध्याय 1-सेल्फ क्रिटिकल होने से कैसे बचे

अध्याय 2-लोगों को जज मत करें :

अध्याय 3-अपने अतीत में हुए दुखों को कैसे भुलाएं ?

अध्याय 4-आलोचना से कैसे निपटे

अध्याय 5-क्रोध पर नियंत्रण कैसे करे

ध्याय 6-सकारात्मक रहें, खुश रहें

अध्याय 7-अपने स्वास्थ्य की देखभाल कैसे करें

अध्याय 8-प्रभावी संचार का महत्व

अध्याय 9-एक इफेक्टिव लिसनर कैसे बनें

अध्याय 10-हमे सामाजिक मेलजोल कैसे बढ़ाना चाहिए?

Sign up to receive new posts

Subscribe to get e-book

.

error: Alert: Content is protected !!