ऐसे facts जो एक किशोर को आत्मसम्मान, आंतरिक शक्ति, तनाव और चिंता के बारे में पता होने चाहिए।  

Synopsis

कम आत्मसम्मान, तनाव और अवसाद के कारण किशोरों को जीवन में बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। वे निर्णय लेने में भी असमर्थ महसूस करते हैं।

किशोरावस्था  हर किसी के जीवन के रोमांच के वो वर्ष होते हैं, जिसमे किशोरों को आत्मसम्मान, आंतरिक शक्ति, तनाव और चिंता के बारे में जानने को कुछ महत्वपूर्ण तथ्य पता चलते हैं।

किशोरावस्था जीवन का एक रोमांचक समय होता है, हालाँकि ये वर्ष चुनौतीपूर्ण भी हो सकते हैं। teenagers को काफी दिक्कतों का सामना करना भी पड़ता है। वे low self-esteem, तनाव और अवसाद से भी ग्रस्त हो सकते है। वे निर्णय लेने में असमर्थ महसूस करते हैं और भ्रमित हो जाते हैं। उनमे उत्साह की कमी हो जाती है और वह साथियों और वयस्कों की अपेक्षाओं का सामना करने के लिए बहुत दबाव महसूस करते हैं।

आम तौर पर, वे नहीं जानते कि अपनी समस्याओं से कैसे निपटा जाए और वे अपने माता-पिता से बात करने में भी झिझकते हैं। वे अपनी समस्याओं के समाधान के लिए अपने मित्रों और इंटरनेट पर निर्भर रहते हैं।

हालाँकि, दोस्तों और इंटरनेट हमेशा सही उत्तर नहीं देते हैं। नतीजा यह होता है कि किशोर अपनी समस्याओं में उलझे रहते हैं और कई बार बड़ी मुसीबतों में फंस जाते हैं।

यदि आप निराश हैं क्योंकि:

  • आपको अवसर नहीं मिला है,
  • आपको बलदाव करने से बाधाओं द्वारा रोका गया  हैं,
  • आप असफलताओं से निराश हैं,
  • आपको गलतियाँ करने में शर्म आती है,
  • आप गलत चुनाव करने से दुखी हैं,
  • आप उन चीजों के बारे में चिंतित हैं जो आपके जीवन में काम नहीं कर रही हैं ।

याद रखें कि आप केवल इंसान हैं। हम सभी जीवन के किसी न किसी मोड़ पर इन चीजों को महसूस करते हैं। हालाँकि, जुझारू व्यक्ति इतने पर ही नहीं रुकता है। 

तो यहां पर  कुछ टिप्स दिए गए है  जिनसे 15 से 18 साल  का समय जीवन में सबसे रोमांचक और सुखद बनाया जा सकता है :

1 दोस्तों का बुद्धिमानी से चयन महत्वपूर्ण है:

छोटे बच्चे अपने माता-पिता के मार्गदर्शन के अनुसार काम करते हैं, लेकिन जैसे-जैसे वे बड़े होते जाते हैं, उनकी संज्ञानात्मक क्षमता विकसित होती जाती है और वे मजबूत होते जाते हैं और वे यह मानने लगते हैं कि उनकी अपनी सोच हमेशा सही होती है। नतीजतन, वे माता-पिता या अभिभावकों की सलाह नहीं लेते हैं। नतीजतन, माता-पिता को मजबूर हो कर उनके बारे में पता करना पड़ता है। वे जानना चाहते हैं कि उनका बच्चा किस चीज में शामिल है और वह उसके जीवन पर कुछ नियंत्रण रखना चाहते हैं। अतः यह उन्हें अपने टीनएज बच्चों की स्वतंत्रता पर नियम और सीमाएँ थोपने की ओर ले जाता है।

दूसरी ओर, किशोरों में स्वतंत्रता की आवश्यकता विकसित होती है। यह माता-पिता और बच्चों के बीच संघर्ष पैदा करता है और परिणामस्वरूप, कभी-कभी किशोर गलत दोस्ती में पड़ जाते हैं क्योंकि वे अपने दोस्तों पर अधिक भरोसा करते हैं। चूंकि बच्चे दोस्तों पर अधिक भरोसा करते हैं, इसलिए दोस्त उनके व्यक्तित्व के निर्माण में प्रमुख भूमिका निभाते हैं इसलिए दोस्तों को बुद्धिमानी से चुनना महत्वपूर्ण है।

2 साथियों के दबाव से दूर रहें:

क्या कारण है की teenagers को अपने साथियों के दबाव का सामना करना पड़ता है :

वे उनसे स्वीकृति प्राप्त करने के लिए अन्य बच्चों की नकल करना चाहते हैं। इसलिए, वे उन चीजों को प्राप्त करना चाहते हैं जो अन्य बच्चों के पास हैं।

वे अपने साथियों के समूह द्वारा अस्वीकृति और उपहास से डरते हैं, इसलिए कभी-कभी उन्हें धूम्रपान, मादक द्रव्यों के सेवन, सेक्स आदि जैसी अनैतिक प्रथाओं में शामिल होने के लिए मजबूर किया जाता है।

साथियों के दबाव के कारण उनका सोशल मीडिया और इंटरनेट का उपयोग असुरक्षित हो सकता है।

उपरोक्त सभी बातों से वैसे भी किसी का भला नहीं होने वाला है। इसलिए सबके साथ मित्रवत व्यवहार अच्छा है लेकिन अपनी पहचान कभी नहीं खोनी चाहिए।

3 वाहन चलाते समय सुरक्षा नियमों का पालन करें:

वाहन चलाते समय हेडफोन या मोबाइल फोन का प्रयोग न करें। एक पल के लिए भी अपनी आँखें सड़क से न हटाएं और गाड़ी चलाते समय रेडियो का प्रयोग न करें। बात करते समय गाड़ी चलाना असुरक्षित है क्योंकि यह दिमाग को डिस्टर्ब करता है आप खुद को या दूसरों को चोट पहुँचा सकते हैं।

शराब या नशीली दवाओं के प्रभाव में ड्राइव न करें। यह असुरक्षित और अवैध दोनों है। जब आप अस्वस्थ महसूस कर रहे हों तो ड्राइव न करें।

सीट बेल्ट का प्रयोग वाहन चालक व यात्री दोनों के लिए अनिवार्य है।

4 नियमित स्वास्थ्य जांच करवाएं:

आमतौर पर टीनएजर्स स्ट्रेस और डिप्रेशन के शिकार होते हैं। इसलिए नियमित स्वास्थ्य जांच करवानी चाहिए जिससे डॉक्टर ऐसी समस्याओं की पहचान कर सके।

विकास में देरी,अनियमित भूख, body image में परेशानी , मादक द्रव्यों के सेवन और सेक्स के साथ अन्य समस्याएं भी हैं, जिन पर भी बिना किसी डर के डॉक्टरों से चर्चा की जा सकती है।

एक किशोर के रूप में, एक दंत चिकित्सक और नेत्र विशेषज्ञ को वर्ष में एक बार जरूर दिखाना चाहिए।  

5. स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं:

एक स्वस्थ, संतुलित आहार खाएं, preferably घर का बना खाना ही खाये  भोजन के पोषक मूल्य के बारे में ज्ञान इकट्ठा करें।

कुछ एक्सरसाइज को डेली रूटीन में शामिल करें।

पर्याप्त अच्छी नींद लें।

सोशल मीडिया और इंटरनेट पर बिताए जाने वाले समय को सीमित करें।

 6.पेशेवर सलाहकारों से सलाह लें:

जब भी आप किसी ऐसी समस्या में फंसें, जिसके बारे में आप अपने माता-पिता या अभिभावकों से बात नहीं कर पा रहे हों, तो किसी पेशेवर काउंसलर से उनकी चर्चा करें। वे आपको आपके समकक्ष समूह से अधिक परिपक्व रूप से सलाह देंगे क्योंकि परामर्शदाताओं के पास ऐसे मुद्दों का अनुभव और ज्ञान दोनों होता है।

7. कैरियर परामर्श:

यहां तक कि अगर आपने अपने करियर के बारे में फैसला कर लिया है, तो भी आपको अपनी पसंद के बारे में किसी अच्छे करियर काउंसलर की विशेषज्ञ राय जानने के लिए सलाह लेनी चाहिए। यदि आपने अभी तक यह तय नहीं किया है कि क्या करना है, तो आपको परामर्शदाता से अवश्य मिलना चाहिए।

8. जानें कैसे और कब कहना है ‘नहीं’:

ज्यादातर किशोर अपने दोस्तों को ना कहने में असहज महसूस करते हैं और परिणामस्वरूप वे ऐसी चीजें करते हैं जो उन्हें पसंद नहीं होती हैं।

तो यहाँ हैं ना कहने के टिप्स:

विनम्रता और सादगी से “ना” कहें। अपने चेहरे पर एक सच्ची मुस्कान रखें।

यदि आवश्यक हो तो अपने शब्दों को दोहराएं। एक्सक्यूज मी या सॉरी जैसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए।

यदि फिर भी आवश्यक हो तो कारण बतायें। कारण में हेरफेर किया जा सकता है।

9 . अगर कोई आपको धमकाये तो आप इस तरह से निपट सकते हैं :

धमकाना किसी कमजोर और अकेले व्यक्ति को नुकसान पहुँचाने और डराने का कार्य है। जो लोग मजबूत होते हैं वे कमजोर लोगों को नुकसान पहुंचाने के लिए गिरोह बनाते हैं। इसकी शुरुआत स्कूलों में बच्चों से होती है।

डराने-धमकाने के शिकार छात्र निराश और उदास हो जाते हैं और उनमें आत्म-सम्मान  की कमी और घृणा का भाव पैदा हो जाता है। बच्चो का मनोविज्ञान जटिल हो जाता है और इस अनुभव से नकारात्मकता से बाहर आना बहुत मुश्किल हो जाता है।

इस हरकत में लड़के और लड़कियां दोनों ही शामिल होते हैं। इसे स्कूल में पूरी तरह से रोका जाना चाहिए और इसकी संभावनाओं को खारिज करने के लिए स्कूल के अधिकारियों को सख्त अनुशासन बनाए रखना चाहिए।

हालाँकि, ऐसा नहीं होता है। तो ऐसे नकारात्मक अनुभवों का सामना करने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

अगर आपको डर लगता है तो भी कॉन्फिडेंस से उनसे बात करें, “मुझे अकेला छोड़ दो” या “मुझे डराने की कोशिश मत करो” वाक्यांशों का प्रयोग करें या “जगह से दूर चले जाओ”

किसी वयस्क, माता-पिता, शिक्षकों या स्कूल काउंसलर को बताएं। अगर आप माता-पिता या शिक्षक को बताएँगे तो ही वो डराने-धमकाने को रोकने के लिए कदम उठा सकते हैं।

जब आप किसी और को धमकाते हुए देखें तो बोलें। यदि यह बहुत बुरा है, तो चले जाओ और एक वयस्क को बताओ।

तत्काल कार्रवाई करें ताकि यह आगे न बढ़े और बिगड़े।

10.तनाव और चिंता:

तनाव कही बाहर से भी आ सकता है, जैसे परिवार, दोस्त और स्कूल। यह स्वयं बच्चों से भी आ सकता है। वयस्कों की तरह, बच्चे भी खुद से बहुत अधिक उम्मीद कर सकते हैं और जब उन्हें लगता है कि वे असफल हो गए हैं तो तनाव महसूस करते हैं।

जब कोई बच्चा तनाव में होता है तो घबराहट या चिंता महसूस करना, थकान महसूस करना, टालमटोल करना या जिम्मेदारियों की उपेक्षा करना और अभिभूत महसूस करना, नकारात्मक विचार आना और सोने की आदतों में बदलाव का अनुभव करना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। खाने की आदतों में बदलाव (बहुत ज्यादा या बहुत कम खाना) भी तनाव में देखा जाता है।

तनाव और चिंता से निपटने के लिए टिप्स :

अपनी डायरी में लिखें: बच्चों को अक्सर उन चीजों के बारे में लिखना मददगार लगता है जो उन्हें परेशान कर रही हैं।

गहरी सांसें लें: तीन तक की गिनती गिने फिर धीरे-धीरे सांस लें और फिर तीन की गिनती तक धीरे-धीरे सांस छोड़ें। अपने शरीर और दिमाग को आराम देने के लिए तीन बार दोहराएं।

अपनी भावनाओं के बारे में बात करें। जीवन में हर कोई विभिन्न चरणों में अलग-अलग भावनाओं का अनुभव करता है। इसलिए ऐसी भावनाएं होना ठीक है। आपको उन्हें रचनात्मक तरीकों से व्यक्त करने की आवश्यकता है।

परिपूर्ण होने से बचें: याद रखें कि इंसान गलतियां कर सकता है। गलतियाँ सीखने का सिर्फ एक हिस्सा हैं।

हास्य का प्रयोग करें। यह तनाव को कम करता है और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ चुनौतीपूर्ण स्थितियों को देखने में हमारी मदद करता है।

रुकें और फिर से सोचें: जब चीजें गलत हो जाएं, तो जल्दबाजी में निष्कर्ष पर न पहुंचने की कोशिश करें। अपने आप से पूछो:

“मैं इस बारे में कितना अलग सोच सकता हूं?”

“वे कौन सी चीजें हैं जिन्हें मैं नियंत्रित कर सकता हूं?”

“मैं कैसे अलग योजना बना सकता हूं?” प्रतिक्रिया देने से पहले एक क्षण लें।

11. आंतरिक शक्ति के विकास पर काम करें:

आंतरिक शक्ति, जिसे अक्सर “लचीलापन” कहा जाता है, तनावपूर्ण स्थितियों से निपटने की क्षमता है जो जीवन हर किसी पर फेंकता है। हर कोई इस क्षमता के साथ पैदा होता है और जीवन भर इस पर हमें काम करना चाहिए।

आंतरिक शक्ति का निर्माण सरल क्रियाओं या विचारों से शुरू होता है, जैसे कि आगे क्या करना है, इसकी योजना बनाना और जीवन में परिवर्तनों को स्वीकार करना सीखना। आंतरिक शक्ति व्यक्ति को जीवन में समस्याओं का सामना करने में मदद करती है।

जिन बच्चों में आंतरिक शक्ति होती है:

ऐसे बच्चे, गरीबी, तलाक, या पारिवारिक त्रासदी के बावजूद भी वे स्वस्थ, सुखी और वयस्क बनते हैं।

वे साथियों के दबाव का सकारात्मक रूप से सामना करते हैं ताकि वे नशीली दवाओं के सेवन, शराब पीने और धूम्रपान से बच सकें।

वे आलोचना का सामना करने के लिए आश्वस्त हैं।

नए लोगों से मिलने पर वे आश्वस्त होते हैं।

वे दूसरों के लिए स्वयंसेवा करना पसंद करते हैं।

वे जीवन में प्यार करने वाले और आशावादी व्यक्ति बनते हैं।

आंतरिक शक्ति कैसे विकसित करें:

स्वीकार करें कि चीजें बदलती हैं।

बदलाव को खतरे के बजाय चुनौती के रूप में देखें।

जो होता है उसे आप बदल नहीं सकते, लेकिन आप इसके बारे में कैसा महसूस करते हैं, इसे सोच को आप बदल सकते हैं।

तनावपूर्ण परिस्थितियों में क्या सकारात्मक है उसे खोजें और स्थिति से सीखें।

बुरे हालात का मज़ेदार पक्ष देखें।

ऐसे लोगों से मिलें जो आपको बेहतर महसूस कराते हैं।

उन लोगों के साथ संबंध बनाएं जो आपके और आपके परिवार के लिए प्यार और देखभाल कर रहे हैं। उनकी मदद करें और उनकी मदद लेने में संकोच न करें।

किसी भी समस्या के समय समाधान पाने के लिए मंथन करें। मित्रों से सुझाव मांगें।

अपने आत्मविश्वास के लिए, उन चीजों को सूचीबद्ध करें जिन्हें आपने अपने जीवन में हासिल किया है या जिन पर आपको गर्व है। अपना अच्छे से ध्यान रखें।

आप अपने आस-पास जो अच्छाई देखते हैं, उसके लिए आभारी रहें।

“जब भी आपके साथ कुछ नकारात्मक होता है, तो उस नकरात्मक्ता के भीतर भी एक गहरा सबक छुपा होता है।” ~ एकहार्ट टोले

12. आत्म सम्मान:

आत्म-सम्मान एक व्यक्ति का स्वयं पर विश्वास है। किसी व्यक्ति का आत्म-सम्मान उसकी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों से प्रेरित होता है। वह जीवन में चीजों को कितने सकारात्मक और उत्पादक रूप से लेता है, यह उसके अपने आप में मूल विश्वास पर निर्भर करता है। हालांकि समय-समय पर आत्म-सम्मान बदलता रहता है, पैटर्न आमतौर पर स्वयं के स्वस्थ या अस्वास्थ्यकर दृष्टिकोण की ओर झुकता है। एक व्यक्ति जीवन में वास्तविक सफलता तभी प्राप्त करता है जब उसके पास स्वस्थ आत्म-सम्मान होता है।

यद्यपि आत्म-सम्मान का निर्माण आजीवन चलने वाली प्रक्रिया है, लेकिन आत्म-सम्मान की नींव बड़ों द्वारा बचपन में ही स्थापित कर देनी चाहिए। हालाँकि, एक किशोर कुछ चीजों के बारे में जागरूक होकर अपने इस गुण को विकसित कर सकता है, जिसे वह आमतौर पर अनदेखा कर देता है।

माता-पिता और अभिभावकों के प्यार और स्नेह को स्वीकार करें और समझे। माता-पिता हमेशा आपकी मदद और मार्गदर्शन के लिए मौजूद रहते हैं। इसलिए उन्हें उनकी कमियों के साथ समझें और स्वीकार करें। वे भी इंसान हैं जो गलतियाँ कर सकते हैं।

13. स्वस्थ आत्म-सम्मान विकसित करने के टिप्स:

अपने आप को एक ख़ास व्यक्ति के रूप में देखें और अपना ध्यान अच्छे से रखे।  आपको जीवन का सबसे महत्वपूर्ण पहलू सीखना चाहिए जो आत्म-प्रेम है और इसलिए अपने आप को आप सभी अच्छाइयों साथ स्वीकार करें। अपने आप को एक इंसान के रूप में समझे जो गलतियां कर सकता है।

किसी करीबी से बात करें जिससे आप अपने विचार साझा कर सकें। आपको कुछ करीबी दोस्त और रिश्तेदार बनाने चाहिए जिनसे आप अपने जीवन में जो कुछ भी घटित हो रहा हैं उसे साझा कर सकें। जितना हो सके अपने माता-पिता से बात करें और उनसे असहमत होना भी सीखें।

साथियों के समूह के साथ सकारात्मक प्रतिस्पर्धा जैसी कुछ सकारात्मक चुनौतियाँ लें। अपने लिए एक नई सीमा निर्धारित करें।

आलोचना को गले लगाना सीखें। इसे अपने प्रदर्शन पर फीडबैक के रूप में लें और प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए इसका इस्तेमाल करें।

आपको डिप्रेशन है या नहीं, यह जानने के लिए चेकलिस्ट:

अवसाद के लक्षण:

एक बच्चा उदास हो सकता है अगर वह:

  • वह ज्यादातर समय चिड़चिड़ा, उदास, अकेला या ऊबा हुआ रहता है।
  • वह उन चीजों का आनंद नहीं लेता है जो उसे आनंद देता था।
  • वजन घटना या बढ़ना।
  • बहुत ज्यादा या बहुत कम सोता है।
  • निराश, बेकार या दोषी महसूस करना।
  • ध्यान केंद्रित करने, सोचने या निर्णय लेने में परेशानी होती है।
  • मृत्यु या आत्महत्या के बारे में बहुत सोचता है।

अवसाद के लक्षणों को अक्सर पहले नज़रअंदाज़ कर दिया जाता है। यह देखना कठिन हो सकता है कि सभी लक्षण एक ही समस्या का हिस्सा हैं।

चाहे अवसाद हल्का हो या गंभीर, परन्तु हर डिप्रेशन के उपचार हैं जो आपकी मदद कर सकते हैं।

किशोरों को परामर्श से लाभ हो सकता है। यह उन्हें उन नकारात्मक विचारों को बदलने में मदद कर सकता है जो उन्हें बुरा महसूस कराते हैं।

यदि बच्चा बहुत उदास है तो दवा एक विकल्प हो सकता है। परामर्श के साथ एंटीडिप्रेसेंट दवा का कॉम्बिनेशन अक्सर सबसे अच्छा काम करता है। गंभीर अवसाद वाले बच्चे को अस्पताल में इलाज की आवश्यकता हो सकती है।

एक चीज जो वास्तव में अवसाद से बाहर आने में सहायक हो सकती है वह है सेवा का दृष्टिकोण विकसित करना। यदि कोई समाज की भलाई के लिए कुछ करने पर ध्यान देता है, तो वह अपने जीवन को सार्थक और उद्देश्यपूर्ण बना सकता है। और उसका ध्यान केवल अपने बारे में सोचने के बजाय एक बड़े उद्देश्य की ओर जाता है। जिन समाजों में सेवा, त्याग और सामुदायिक भागीदारी के मूल्य होते हैं, वहाँ अवसाद और आत्महत्या के ये मुद्दे नहीं होते। सिख समुदाय इसका सबसे बड़ा उदाहरण है।

जीवन सुख और दुख दोनों का मेल है। दर्द अपरिहार्य है, लेकिन पीड़ा वैकल्पिक है। जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखने से आपको दुख भरे समय में आगे बढ़ने की शक्ति मिलती है। याद रखें कि आपका जीवन इस दुनिया के लिए मायने रखता है। अपनी अनंत संभावनाओं के साथ यह जीवन सभी के लिए एक उपहार है। यह सिर्फ अपने लिए ही नहीं बल्कि कई अन्य लोगों के लिए भी खुशी का स्रोत बन सकता है।

Sign up to receive new posts

close
Mother child bird

Don’t miss these tips!

.

Anshu Shrivastava

Anshu Shrivastava

मेरा नाम अंशु श्रीवास्तव है, मैं ब्लॉग वेबसाइट hindi.parentingbyanshu.com की संस्थापक हूँ।
वेबसाइट पर ब्लॉग और पाठ्यक्रम माता-पिता और शिक्षकों को पालन-पोषण पर पाठ प्रदान करते हैं कि उन्हें बच्चों की परवरिश कैसे करनी चाहिए, खासकर उनके किशोरावस्था में।

Anshu Shrivastava

Anshu Shrivastava

मेरा नाम अंशु श्रीवास्तव है, मैं ब्लॉग वेबसाइट hindi.parentingbyanshu.com की संस्थापक हूँ।
वेबसाइट पर ब्लॉग और पाठ्यक्रम माता-पिता और शिक्षकों को पालन-पोषण पर पाठ प्रदान करते हैं कि उन्हें बच्चों की परवरिश कैसे करनी चाहिए, खासकर उनके किशोरावस्था में।

Follow me on
Like this article? Share.
Facebook
Twitter
WhatsApp
Email

Popular Posts

error: Alert: Content is protected !!