आलोचना से कैसे निपटे

Synopsis

आलोचना का लोगों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यह लोगों में आत्मसम्मान में कमी , हताशा, असुरक्षा और तनाव पैदा करता है।

किसी के द्वारा आलोचना किया जाना बहुत से लोगों की एक सामान्य प्रवृत्ति है इसलिए आलोचना से निपटना सीखना आवश्यक है।

हम अपने समाज में देखते हैं कि कई लोगों की आदत होती है कि वे दूसरों में कमियां निकालते हैं। उनमें दूसरों को स्वीकार करने की बजाय उनमे कमिया निकलने की आदत होती है। साथ ही, हम पाते हैं कि अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लोग वास्तविकता जाने बिना दूसरे लोगों के बारे में नकारात्मक बातें लिखते हैं। इस प्रथा को लोकप्रिय रूप से ट्रोलिंग के नाम से जाना जाता है। दूसरों में कमियां और जजमेंट निकालने की आदत इतनी आम हो गई है कि इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब ट्रोलिंग हो रही है।

ऐसी आदतों को आमतौर पर आलोचना के रूप में जाना जाता है। अधिकतर लोगों को पता ही नहीं चलता कि उनमें ऐसी प्रवृति है। और ऐसा तब तक करते रहते है जब तक कि लोग उन्हें इसके बारे में न बता दें। आलोचना एक दर्दनाक अनुभव है, लेकिन यह जीवन के अनुभव का एक हिस्सा है। न केवल बाहरी दुनिया में हर कोई इस अनुभव से गुजरता है, बल्कि हम अपने परिवारों में भी देखते हैं कि लोगों में यह आदत होती है। और एक-दूसरे की भावनाओं को समझे बिना ही आहत करने वाले बयान देते रहते हैं।

इस प्रवृत्ति से कोई भी समुदाय अछूता नहीं है।

आलोचना का लोगों पर negative effect  पड़ता है। यह लोगों में आत्मसम्मान में कमी , हताशा, असुरक्षा और तनाव पैदा करता है। लोग लंबे समय तक भावनात्मक और शारीरिक रूप से आलोचना का सामना करने से असुरक्षित महसूस करते हैं।

आमतौर पर देखा जाता है कि जब भी हमें आलोचना का सामना करना पड़ता है तो हम उसका तुरंत जवाब देते हैं। या तो हम गुस्सा हो जाते हैं या हम defensive हो जाते हैं। जब हम किसी को गुस्से में जवाब देते हैं, तो प्रतिक्रिया कभी-कभी बेहद कठोर होती है और इससे लोगों के बीच unpleasant scenes होते हैं। कई बार तो रिश्ता टूट भी जाता है।

जब हम defensive हो जाते हैं, तो हम यह समझाने की कोशिश करते हैं और चाहते भी हैं कि दूसरे हमें सम्मान के साथ स्वीकार करें। लेकिन वास्तव में ऐसा होता नहीं है और हम फिर से निराशा और असुरक्षा की भावना से भर जाते हैं। आखिरकार, हम डिमोटिवेट महसूस करने लगते हैं।

इसलिए हमें आलोचनाो से कैसे निपटना चाहिए यह सीखने की जरूरत है क्योंकि हम ऐसे समाज में रहते हैं जहां किसी की भी आलोचना की जा सकती है।

 हम आसानी से स्वस्थ तरीके से आलोचना को हैंडल करना सीख सकते हैं।

नकारात्मक आलोचना को सकारात्मक प्रतिक्रिया में बदलने का तरीका सीखने से आपको हमेशा प्रेरित रहने में मदद मिलती है।

तो हम यह कैसे कर सकते हैं? इसके लिए हमें पहले दो स्थितियों की कल्पना करनी होगी।

स्थिति एक- जब आलोचना उन लोगों द्वारा की जाती है जो हमारे शुभचिंतक हैं।

स्थिति दो- जब आलोचना उन लोगों द्वारा की जाती है जो हमारे शुभचिंतक नहीं हैं।

स्थिति एक- जब आलोचना उन लोगों की ओर से हो जो हमारे शुभचिंतक हैं।

आलोचना से निपटने में पहला कदम यह पहचानना है कि वह व्यक्ति शुभचिंतक है या नहीं।

आपको व्यक्ति की के बारे में जानना होगा, क्या उसने past में आपको कभी सही सलाह दी है ? और अगर है तो वह आपका शुभचिंतक है और यह आपके माता-पिता, दोस्त, रिश्तेदार, पड़ोसी या शिक्षक हो सकते हैं, जिन्होंने हमेशा आपकी मदद की है।

तब आपको उनकी आलोचना में छिपे संदेश को समझने की जरूरत है। जब आप उनकी आलोचना का विश्लेषण करते हैं, तो आप देखेंगे कि दी गई प्रतिक्रिया acceptable है। जब आप उनकी प्रतिक्रिया से सहमत हों, तो इसके लिए उन्हें धन्यवाद दें। उदाहरण के लिए, यदि आलोचना आपकी performance को लेकर है और आपको भी लगता है कि आपकी परफॉरमेंस ठीक नहीं है, तो आप उसे स्वीकार करे और अपने आप में सुधार करे। 

स्थिति दो – जब आपकी आलोचना करने वाला व्यक्ति आपका शुभचिंतक न हो।

अगर वह जानबूझकर आपको नीचा दिखा रहा है तो इस मामले में, यदि उनका फीडबैक ठीक है, तो इस स्थिति में  Situation one  में चर्चा के अनुसार उसका पालन करें।

आपको अपनी गलतियों को स्वीकार करना चाहिए और उन लोगों के प्रति भी grateful होना चाहिए। यह करना कोई आसान काम नहीं है क्योंकि आप जानते हैं कि उस व्यक्ति का इरादा आपको नीचा दिखाने का है। हालांकि, अगर उनका फीडबैक ठीक है तो उनके लिए आभारी रहें। जब आप उनके साथ इस तरह का व्यवहार करेंगे तो वे भविष्य में आपकी आलोचना करने के लिए discourage होंगे। क्योंकि अगर आप बुरा  महसूस नहीं कर रहे हैं, तो उनका मिशन पूरा नहीं हुआ।

उन्होंने आपके प्रदर्शन को सुधारने के लिए आपकी आलोचना नहीं की, बल्कि आपको नीचा महसूस कराया।

उनकी प्रतिक्रिया के बावजूद अगर आप strong  महसूस करते और अच्छा महसूस करते है तो यह आपकी मजबूत आंतरिक शक्ति को दर्शाता है। लोग आपकी आलोचना करने या भविष्य में आपको नीचा महसूस कराने की कोशिश नहीं करेंगे। 

अगर आप उनके  फीडबैक से सहमत नहीं है तो उन्हें ignore  कर दें। आपको यह समझाने की आवश्यकता नहीं है कि आप सहमत क्यों नहीं हैं।

आपको ऐसे लोगों की आलोचना से क्यों परेशान नहीं होना चाहिए?

जो लोग जानबूझकर दूसरों की आलोचना करते हैं वे low self-esteem से पीड़ित होते हैं। क्योंकि जिस व्यक्ति में स्वाभिमान होता है, वह दूसरों का कभी भी अपमान नहीं करता। जिस व्यक्ति में high self-esteem, high self-confidence होता  है और एक cultured  और moral society या समुदायों में उसका पालन-पोषण हुआ है, उसमें यह प्रवृत्ति कभी नहीं होगी।

इसलिए लोगों की इस तरह की टिप्पणियों से परेशान न हों।

खुद पर भरोसा रखें और तुरंत प्रतिक्रिया न दें। भविष्य में पहले चीजों का विश्लेषण करें। लोगों के नियत को समझिए। उनकी टिप्पणियों में छुपा हुआ संदेश देखें। स्थिति को समझने के बाद आपको शांत और मजबूत दिमाग से जवाब देना चाहिए। यदि आप इस तरह से आलोचना का जवाब देना सीखते हैं, तो आप देखेंगे कि आप अधिक परिपक्व हो गए हैं। आप अपनी गलतियों को  गलती  समझकर अपने कौशल में सुधार करेंगे। इसलिए इस पद्धति का पालन करके आलोचना के नकारात्मक प्रभाव को सकारात्मक परिणाम में बदलेंगे ।

Sign up to receive new posts

close
Mother child bird

Don’t miss these tips!

.

Anshu Shrivastava

Anshu Shrivastava

मेरा नाम अंशु श्रीवास्तव है, मैं ब्लॉग वेबसाइट hindi.parentingbyanshu.com की संस्थापक हूँ।
वेबसाइट पर ब्लॉग और पाठ्यक्रम माता-पिता और शिक्षकों को पालन-पोषण पर पाठ प्रदान करते हैं कि उन्हें बच्चों की परवरिश कैसे करनी चाहिए, खासकर उनके किशोरावस्था में।

Anshu Shrivastava

Anshu Shrivastava

मेरा नाम अंशु श्रीवास्तव है, मैं ब्लॉग वेबसाइट hindi.parentingbyanshu.com की संस्थापक हूँ।
वेबसाइट पर ब्लॉग और पाठ्यक्रम माता-पिता और शिक्षकों को पालन-पोषण पर पाठ प्रदान करते हैं कि उन्हें बच्चों की परवरिश कैसे करनी चाहिए, खासकर उनके किशोरावस्था में।

Follow me on
Like this article? Share.
Facebook
Twitter
WhatsApp
Email

Popular Posts

error: Alert: Content is protected !!