व्यक्तिगत सुधार के विभिन्न क्षेत्र क्या हैं

Boy student getting bullied in school

Synopsis

अपने जीवन के कुछ क्षेत्रों पर ध्यान देकर आप व्यक्तिगत सुधार कर सकते हैं। अपने स्वस्थ्य, करियर आदि में कुछ बदलाव लाकर जीवन में सुधार ला सकते हैं।

खुद को बेहतर बनाने के कई तरीके हो सकते हैं जैसे स्वास्थ्य और फिटनेस, मानसिक और भावनात्मक कल्याण, पारिवारिक और सामाजिक संबंध, करियर और वित्तीय संपत्ति। लोगों को भविष्य में खुद को एक बेटर वर्ज़न बनाने के लिए हमेशा कड़ी मेहनत और चतुराई से काम करना चाहिए। व्यक्तिगत सुधार के क्षेत्रों को मोटे तौर पर पाँच मुख्य श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। वे इस प्रकार हैं:

1. स्वास्थ्य और फिटनेस

2. मानसिक और भावनात्मक तंदुरूस्ती

3. पारिवारिक और सामाजिक संबंध

4. करियर

5. वित्तीय धन

1. स्वास्थ्य और फिटनेस:

एक खुशहाल जीवन जीने के लिए व्यक्ति का अच्छा स्वास्थ्य और तंदुरूस्त   होना आवश्यक है। इसलिए, लोगों को रोजाना कुछ समय अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में लगाना चाहिए।

• लोगों को अपने जीवन में व्यायाम, योग, स्वस्थ भोजन और स्वस्थ नींद की आदतों को शामिल करना चाहिए।

• उन्हें नियमित स्वास्थ्य जांच करवानी चाहिए।

• स्वास्थ्य पत्रिकाओं और पुस्तकों को नियमित रूप से पढ़ना चाहिए क्योकि इससे हमें स्वास्थ्य में सुधार के लिए नए और उपयोगी सुझावों का अपडेट मिलता रहता है।

Also Read  

निराशावादी विचारो से कैसे डील करे

अपनी ख्वाहिशों को कैसे पहचाने?

जीवन में आशा वापस लाने के उपाय

2. मानसिक और भावनात्मक तंदुरूस्ती:

जीवन का भरपूर आनंद लेने के लिए लोगों को अपनी इनर स्ट्रेंथ का ध्यान रखना चाहिए। अक्सर लोग अपने शारीरिक स्वास्थ्य का ही ध्यान रखते हैं, वे अपने मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य के महत्व से अनजान रहते हैं। हालांकि व्यक्तिगत सुधार के लिए अनगिनत तरीके हैं और उनमें से कुछ नीचे दिए गए  है:

• सबसे पहले आप जैसे हैं वैसे ही खुद को स्वीकार करें। दूसरों की नजरों से खुद को न देखें। आपने अब तक जो कुछ भी हासिल किया है, उसके लिए खुद की सराहना करें। इससे आपको अपनी भावनाओं को समझने में मदद मिलेगी और इस तरह आप संतुष्ट और खुश महसूस करेंगे। यह आपको समझदारी से निर्णय लेने में भी मदद करेगा।

• अपने आप से बहुत अधिक उम्मीद न करें और यहां तक कि परफेक्ट बनने की आकांक्षा भी न रखें क्योंकि यह चिंता पैदा करता है। स्वयं से सहानुभूति रखें। इससे आप तनाव मुक्त और अधिक प्रोडक्टिव बनेंगे।

• अपनी सोच में लॉजिक को शामिल करें। अनुशासन, स्वीकृति और माफ़ कर देने के माध्यम से खेद, अपराध और भय की भावनाओं को मैनेज करें।

• जीवन की विभिन्न घटनाओं के परिणामों का सामना करना सीखें और जीवन में परिवर्तनों को स्वीकार करें। यह आपको भीतर से सुरक्षित कर देगा।

• यथार्थवादी मानक बनाएं और काम पूरा करें। यह आपके आत्मविश्वास को बढ़ाएगा और आपको नई चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रेरित करेगा।

• अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए किताबें पढ़ें और महान लोगों के अनुभवों से लाभा उठाये। दूसरों की गलतियों से सीखें।

• साथियों के साथ कम्पटीशन की भावना न रखकर आप नकारात्मक दबावों से बच सकते हैं। मुकाबला सिर्फ खुद से करो।

• किसी ऐसे मुद्दे के बारे में लोगों से बात करें जो आपको परेशान कर रहा है और उनकी सलाह लें। यदि आपके पास आपका मार्गदर्शन करने के लिए एक पेशेवर सलाहकार है, तो उसे नियुक्त करने में संकोच न करें।

• सोशल मीडिया पर कम समय बिताएं। लोगों के साथ मजे करे और है खेल कर अपना समय बिताएं।

• उन लोगों के लिए कुछ करे जिन्हे आपके समय और कौशल की आवश्यकता है। यह आपके आत्म-सम्मान को बढ़ाएगा और कृतज्ञता की भावना विकसित करेगा।

• Journal के माध्यम से आप अपने विचारों, अनुभवों और टिप्पणियों को व्यक्त कर सकते हैं। और यह आप  प्रतिदिन या केवल तभी लिख सकते हैं जब आपका मन  करें। यह आपकी भावनाओं पर नजर रखने में आपकी मदद करता है।

Also Read

बच्चों में पारिवारिक संबंध बनाने के लिए पेरेंटिंग युक्तियाँ

अपने बच्चे को जिम्मेदार कैसे बनाएं?

3. पारिवारिक और सामाजिक संबंध:

शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए परिवार और दोस्तों के साथ अच्छे संबंध होना बहुत जरूरी हैं। परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ भरोसेमंद संबंध बनाए रखें जो जरूरत पड़ने पर आपकी देखभाल करेंगे। परिवार और समाज के साथ संबंध आपको कुछ अच्छे गुण सिखाने में मदद करते हैं:

• कृतज्ञता

• स्वीकृति

• अप्रिय बातों को जाने दें

• दया

4. करियर:

• कुछ नया सीखने की आदत विकसित करें। अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकलें। कॅल्क्युलेटेड  जोखिम लें।

• आपको अपने जीवन के कार्यक्षेत्र में 1% सुधार के सिद्धांत का पालन करना चाहिए। यह देखा गया है कि steady growth आपको दीर्घकाल में बड़ी सफलता देती है। एक बेहतर रणनीतिकार बनें।

• किसी भी उन्नति और विकास के बारे में अपडेट रहने के लिए अपने कार्य क्षेत्र से संबंधित नई किताबें और लेख पढ़ते रहें।

• सार्वजनिक बोलने में सुधार करें। कार्यस्थल पर, आपको अपने चेहरे पर कोमल मुस्कान के साथ अच्छे कपड़े पहनने चाहिए। आपको हमेशा उत्साही और ऊर्जावान दिखना चाहिए। यह आपके चारों ओर एक सकारात्मक आभा पैदा करेगा जो दूसरों को और आपको हर समय अच्छा महसूस कराएगा।

5. वित्तीय संपदा:

व्यक्तिगत सुधार का पांचवां पहलू इस प्रकार है।

• आमतौर पर लोग पैसा कमाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं, लेकिन आश्चर्य होता है कि वे पैसे बचाने, बजट बनाने और सही तरीके से निवेश करने पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं।

• कभी-कभी यह देखा जाता है कि विरासत में पैतृक संपत्ति का एक अच्छा हिस्सा होने के बावजूद और अपने करियर में एक आकर्षक वेतन अर्जित करने के बावजूद लोग अपने बुढ़ापे में आर्थिक रूप से independent नहीं होते हैं। और ऐसा तब होता है जब लोग उचित वित्तीय प्रबंधन के महत्व को अनदेखा कर देते हैं।

• अपनी गाढ़ी कमाई को सही जगह में निवेश करना आवश्यक है। निवेश आपको समय के साथ अच्छा रिटर्न देते हैं जो आपकी wealth का निर्माण करता है। और आपको धन लाभ होने लगता है। व्यवस्थित और उचित धन प्रबंधन आपको आर्थिक रूप से स्वतंत्र जीवन जीने में मदद करता है। इस संबंध में आपकी सहायता करने के लिए किसी पेशेवर से सलाह लें

Sign up to receive new posts

Subscribe to get e-book

.

Anshu Shrivastava

Anshu Shrivastava

मेरा नाम अंशु श्रीवास्तव है, मैं ब्लॉग वेबसाइट hindi.parentingbyanshu.com की संस्थापक हूँ।
वेबसाइट पर ब्लॉग और पाठ्यक्रम माता-पिता और शिक्षकों को पालन-पोषण पर पाठ प्रदान करते हैं कि उन्हें बच्चों की परवरिश कैसे करनी चाहिए, खासकर उनके किशोरावस्था में।

Anshu Shrivastava

Anshu Shrivastava

मेरा नाम अंशु श्रीवास्तव है, मैं ब्लॉग वेबसाइट hindi.parentingbyanshu.com की संस्थापक हूँ।
वेबसाइट पर ब्लॉग और पाठ्यक्रम माता-पिता और शिक्षकों को पालन-पोषण पर पाठ प्रदान करते हैं कि उन्हें बच्चों की परवरिश कैसे करनी चाहिए, खासकर उनके किशोरावस्था में।

Follow me on
Like this article? Share.
Facebook
Twitter
WhatsApp
Email

Popular Posts

error: Alert: Content is protected !!